मेन्यू

चमकते सितारे

सफलता के आकाश में एक नई उड़ान के साथ न्यायमूर्ति अंकिता जैन

23 वर्षीय कु. अंकिता जैन, टीकमगढ़ (मध्य प्रदेश) ने श्रमसाध्य साधना और सघन समर्पण के बलबूते पर न्याय के सिंहासन पर पदासीन होने का गौरव प्राप्त किया। अंकिता जैन प्रतिभास्थली ज्ञानोदय विद्यापीठ, जबलपुर की 2013 के बैच की छात्रा थी। परम पूज्य आचार्य भगवन श्री विद्यासागर जी महामुनिराज की प्रेरणा एवं आशीर्वाद से ही अंकिता ने सिविल जज बनने का निर्णय लिया था।
मानवता के हित में अन्याय की पीठ पर बैठ न्याय का बिगुल बजाने वाली कु. अंकिता प्रतिभास्थली की प्रथम ऐसी छात्रा है, जिन्होंने सिविल जज की परीक्षा में छठा स्थान प्राप्त कर न्याय के इतिहास में अपना नाम स्वर्णाक्षरो में अंकित कराया है।
 
 

10वीं और 12वीं परीक्षा के परिणाम

2019

 

2018

 

संस्कारित शिक्षा का शंखनाद- प्रतिभास्थली की प्रतिभाएँ बनी ‘चार्टर्ड अकाउंटेंट’
प्रतिभास्थली ज्ञानोदय विद्यापीठ, जबलपुर से शिक्षा प्राप्त दो प्रतिभाएँ- कु. मोही सेठ (2012 बैच) और कु. प्रज्ञा जैन (2013 बैच) की मेहनत रंग लाई और दोनों प्रतिभाएँ बनी ‘चार्टर्ड अकाउंटेंट’।
उनकी इस सफलता पर प्रतिभास्थली परिवार गौरवान्वित है।
दोनों को हार्दिक शुभकामनाएँ......
 
 

2017

 

2016

20 सितम्बर 2016 को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में राष्ट्रसंत, प्रतिभास्थली प्रणेता परम पूज्य 108 आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के समक्ष IAS अफसर श्री नितिन नांदगावकर ने प्रतिभास्थली जबलपुर की तीन प्रतिभाशाली छात्राओं को सम्मानित किया। इन छात्राओं ने वर्ष 2015-16 की CBSE-12वीं की परीक्षा में विद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त किया था।
 
 

2015

 

2014 & 2013